Adi Shakti Quotes in Hindi आदिशक्ति पर सुविचार

Adi Shakti Quotes in Hindi  आदिशक्ति पर सुविचार

Adi Shakti Quotes in Hindi- निर्गुण अथवा सगुण चिन्मयी पराशक्ति पूजनीय है.

-देवीभागवत

मै और ब्रह्म एक ही है. मुझमें ओर इस ब्र्रह्म में कभी किंचिन्मात्र भी भेद नहीं है. जो वह है, वही मै हूं और जो मै हूं, वही वह है. बुद्धि के भ्रम से भेद प्रतीत हो रहा है.

-देवोभागवत

Adi Shakti Quotes in Hindi- नरद ! वे परमात्मा और आद्याशक्ति दोनों एक रूप, चिन्मयस्वरूप, निर्गुण और निर्मल है. जो शक्ति है, वही परमात्मा है और जो परमात्मा है, वही शक्ति है-ऐसा सिद्धान्त है.

-देवीभागवत

मेरी मायाशक्ति ने सम्पूर्ण चराचर जगत् की रचना की है. परमार्थ-दृष्टि से तो वह माया भी मुझसे भिन्न कोई वस्तु नहीं है. व्यवहार की दृष्टि से वही ‘माया’ और ‘विद्या’ के नाम से प्रसिद्ध हे. तत्त्वदृष्टि से पृथक कुद भी नही. तत्त्व केवल एक ही है.

-देवीभागवत

Adi Shakti Quotes in Hindi आदिशक्ति पर सुविचार
Adi Shakti Quotes in Hindi आदिशक्ति पर सुविचार

Adi Shakti Quotes in Hindi- पराशक्ति को मनीषीजन सगुण और निर्गुण दो रूपों में बताते है. संसार में आसक्त साधकजन देवी के सगुण भाव को और विरक्त जन देवी जन देवी क निर्गुण भाव को अपनाकर आराधना करते हे.

-देवीभागवत

क्षमा पर सुविचार

क्रोध गुस्से पर सुविचार

कर्म पर अनमोल विचार

जिन्हें परब्रह्म शिव की शक्ति कहा जाता है, वे ही शुम्भु का ज्ञान, क्रिया, इच्छा, बल, करण, मन, शान्ति, तेज, शरीर, स्वर्गलोक, आवास, दिव्यासन, महारानी तथा समस्त भोग्यवर्गरूपा है.

-अप्पयदीक्षित

उस एक परम वस्तु को कोई ‘शक्ति’ कहते है, कोई विद्वान् उसे ‘स्वरूप’ कहते हैं, कोई ‘ब्रह्मा’ तथा कोई ‘पुरूष’.

-धीरमणगीता

Adi Shakti Quotes in Hindi- मां ! भगवान् विष्णु समस्त प्राणियों के हृदय में विराज-मान है और तुम उनके हृदय में विराजती हो, पर तुम्हारे हृदय में भी दया विराजती है, अतः हम तुम्हारा ही आश्रय लेते है.

-अज्ञात

महाशक्ति वैचिन्न्यमयी वह नव चित्र बनाती. किसी भाव के वश होकर फिर तुरन्त मिटाती.

-गिरिजादत्त शुक्ल ‘गिरीष’

Adi Shakti Quotes in Hindi- जगत् में शक्ति की सभी अभिव्यक्तियाँ माँ ही हैं.

-विवेकानन्द

माँ के लिए ब्रहाण और शूद्र क्या, माँ तो जगदम्बा है, जगत्-जननी.

-विमल मित्र

अमीर खुसरो की जीवनी और रचनाएं

गोस्वामी तुलसीदास जी की जीवनी

भगवान परशुराम जी की जीवनी

0 Comments

Add Yours →

Leave a Reply