चाणक्य के सुविचार Chanakya Quotes In Hindi

Chanakya Quotes In Hindi – कोई काम शुरू करने से पहले, स्वयं से तीन प्रश्न कीजिये – मैं ये क्यों कर रहा हूँ, इसके परिणाम क्या हो सकते हैं और क्या मैं सफल होऊंगा. और जब गहराई से सोचने पर इन प्रश्नों के संतोषजनक उत्तर मिल जायें, तभी आगे बढिए.

-आचार्य चाणक्य

अपमानित हो के जीने से अच्छा मरना है. मृत्यु तो बस एक क्षण का दुःख देती है, लेकिन अपमान हर दिन जीवन में दुःख लाता है.

-आचार्य चाणक्य

Chanakya Quotes In Hindi – सत्य भी यदि अनुचित है तो उसे नहीं कहना चाहिए.

-चाणक्य

मूर्ख लोगो से वाद-विवाद नहीं करना चाहिए क्योंकि ऐसा करने से हम अपना ही समय नष्ट करते है.

-चाणक्य

Chanakya Quotes In Hindi – विद्या को चोर भी नहीं चुरा सकता.

चाणक्य

शिकारपरस्त राजा धर्म और अर्थ दोनों को नष्ट कर लेता है.

चाणक्य

वन की अग्नि चन्दन की लकड़ी को भी जला देती है,  दुष्ट व्यक्ति किसी का भी अहित कर सकते हैं.

चाणक्य

Chanakya Quotes In Hindi – किसी मूर्ख व्यक्ति के लिए किताबें उतनी ही उपयोगी हैं जितना कि एक अंधे व्यक्ति के लिए आईना.

-चाणक्य

आशा, उम्मीद पर प्रेरक कथन

भाग्य पर प्रेरक वचन

जीवन पर प्रेरक वचन

शिक्षा सबसे अच्छी मित्र है. एक शिक्षित व्यक्ति हर जगह सम्मान पाता है. शिक्षा सौंदर्य और यौवन को परास्त कर देती है.

-चाणक्य

चाणक्य के सुविचार Chanakya Quotes In Hindi
चाणक्य के सुविचार Chanakya Quotes In Hindi

अगर सांप जहरीला ना भी हो तो उसे खुद को जहरीला दिखाना चाहिए.

-चाणक्य

जो तुम्हारी बात को सुनते हुए इधर-उधर देखे उस आदमी पर कभी भी विश्वास न करे.

-आचार्य चाणक्य

Chanakya Quotes In Hindi -कोई भी व्यक्ति ऊँचे स्थान पर बैठकर ऊँचा नहीं हो जाता बल्कि हमेशा अपने गुणों से ऊँचा होता है.

-आचार्य चाणक्य

खुद का अपमान करा के जीने से तो अच्छा है मर जाना क्योकि प्राणों को त्यागने से एक ही बार कष्ट होता है पर अपमानित होकर जिंदा रहने से बार-बार कष्ट होता है.

 -चाणक्य

वो जिसका ज्ञान बस किताबों तक सीमित है और जिसका धन दूसरों के कब्ज़े मैं है, वो ज़रुरत पड़ने पर ना अपना ज्ञान प्रयोग कर सकता है ना धन.

-चाणक्य

सेवक को तब परखें जब वह काम ना कर रहा हो, रिश्तेदार को किसी कठिनाई में, मित्र को संकट में, और पत्नी को घोर विपत्ति में.

-चाणक्य

इस बात को व्यक्त मत होने दीजिये कि आपने क्या करने के लिए सोचा है, बुद्धिमानी से इसे रहस्य बनाये रखिये और इस काम को करने के लिए दृढ रहिये.

-चाणक्य

एक सूखे पेड़ को अगर आग लगा दी जाये तो वह पूरा जंगल जला देता है, उसी प्रकार एक पापी पुत्र पुरे परिवार को बर्वाद कर देता है.

-चाणक्य

फूलों की सुगंध केवल वायु की दिशा में फैलती है. लेकिन एक व्यक्ति की अच्छाई हर दिशा में फैलती है.

-चाणक्य

वेश्याएं निर्धनों के साथ नहीं रहतीं, नागरिक कमजोर संगठन का समर्थन नहीं करते, और पक्षी उस पेड़ पर घोंसला नहीं बनाते जिस पे फल ना हों.

-चाणक्य

यह भी पढ़ें:

सुकरात ने क्यों पिया जहर

सत्य का महत्व

महापुरुषों के अनमोल सुविचार

अक्ल और उम्र में किसका मूल्य अधिक है

0 Comments

Add Yours →

Leave a Reply