Mirza Ghalib Quotes मिर्जा गालिब के चुनिंदा शेर

 Mirza Ghalib Quotes महान शायर मिर्जा गालिब के चुनिंदा नग़्मे

बस कि दुशवार है हर काम का आसां होना 

आदमी को भी मयस्सर नहीं इनसां होना

mirza ghalib quotes in urdu

आह को चाहिए इक उम्र असर होते तक
कौन जीता है तिरी ज़ुल्फ़ के सर होते तक

हुआ है शह का मुसाहिब फिरे है इतराता
वरना इस शहर में ग़ालिब की आबरू क्या है

रोज इस शहर में एक हुक्म नया होता है
कुछ समझ में नहीं आता कि क्या होता है

आईना क्यूँ न दूँ कि तमाशा कहें जिसे
ऐसा कहाँ से लाऊँ कि तुझ सा कहें जिसे

mirza ghalib quotes on life

Mirza Ghalib Quotes महान शायर मिर्जा गालिब के चुनिंदा नग़्मे
Mirza Ghalib Quotes महान शायर मिर्जा गालिब के चुनिंदा नग़्मे

न था कुछ तो ख़ुदा था कुछ न होता तो ख़ुदा होता
डुबोया मुझ को होने ने न होता मैं तो क्या होता

अनुभव पर अनमोल विचार

गीता पर महापुरुषों के अनमोल वचन

आयु / उम्र पर सर्वश्रेष्ठ कथन

रगों में दौड़ते फिरने के हम नहीं क़ाइल
जब आँख ही से न टपका तो फिर लहू क्या है

20 beautiful mirza ghalib quotes for all the romantics in 2019

बाज़ीचा-ए-अतफ़ाल है दुनिया मिरे आगे 
होता है शब-ओ-रोज़ तमाशा मिरे आगे

कितना खौफ होता है शाम के अंधेरों में
पूछ उन परिंदों से जिनके घर नहीं होते

उन के देखे से जो आ जाती है मुँह पर रौनक़
वो समझते हैं कि बीमार का हाल अच्छा है

ये न थी हमारी क़िस्मत कि विसाल-ए-यार होता
अगर और जीते रहते यही इंतिज़ार होता

हाथों की लकीरों पर मत जा ए ग़ालिब,
नसीब उनके भी होते हैं जिनके हाथ नहीं होता

बस-कि दुश्वार है हर काम का आसाँ होना
आदमी को भी मयस्सर नहीं इंसाँ होना

mirza ghalib all quotes

दर्द मिन्नत-कश-ए-दवा न हुआ
मैं न अच्छा हुआ बुरा न हुआ

हम को मालूम है जन्नत की हक़ीक़त लेकिन
दिल के ख़ुश रखने को ‘ग़ालिब’ ये ख़याल अच्छा है

इशरत-ए-क़तरा है दरिया में फ़ना हो जाना
दर्द का हद से गुज़रना है दवा हो जाना

हैं और भी दुनिया में सुख़न-वर बहुत अच्छे
कहते हैं कि ‘ग़ालिब’ का है अंदाज़-ए-बयाँ और

गुरु नानक देव की कहानियां

जीसस क्राइस्ट के अनमोल वचन

गौतम बुद्ध की कहानियां

0 Comments

Add Yours →

Leave a Reply